प्राचीन भारत का इतिहास – सामान्य ज्ञान प्रश्नोत्तरी 41-60

0 8

41.

कौन सा वंश ब्रह्मक्षत्रिय वंश कहलाता था?

[A] सेन

[B] पाल

[C] प्रतिहार

[D] चालुक्य

Correct Answer: A [सेन]

Notes:

सेन वंश ब्रह्मक्षत्रिय वंश कहलाता था। यह बंगाल का एक वंश था। इसकी स्थापना सामन्त सेन ने की। यह 11वीं और 12 वीं सदी में था।

42.

कौन सा मिलान सही नहीं है?

[A] नागनाद -हर्ष

[B] मुद्राराक्षस – विशाखादत्त

[C] मृच्छकटिक – शूद्रक

[D] रत्नावली – राजशेखर

Correct Answer: D [रत्नावली – राजशेखर]

Notes:

नागनाद एक संस्कृत नाटक है जिसकी रचना राजा हर्ष ने की। मुद्राराक्षस की रचना विशाखादत्त ने की। मृच्छकटिक की रचना शूद्रक ने की। रत्नावली की रचना उदयिन ने की।

43.

परम-सौगात की उपाधि किसने धारण की?

[A] राज्यवर्धन

[B] हर्षवर्धन

[C] प्रभाकर वर्धन

[D] इनमें से कोई नहीं

Correct Answer: A [राज्यवर्धन]

Notes:

परम- सौगात की उपाधि राज्यवर्धन ने धारण की| राज्यवर्धन हर्ष की बहिन राज्यश्री का पति और वर्धन वंश का राजा था जिसकी हत्या गौड़ के राजा शशांक ने कर दी थी|

44.

गुप्त राजाओं के बाद किन राजाओं ने गरुड़ को अपना राज्य का चिन्ह बनाया?

[A] पल्लव

[B] राष्ट्रकूट

[C] चोल

[D] वर्धन

Correct Answer: A [पल्लव]

Notes:

गुप्त राजाओं के बाद किन राजाओं ने गरुड़ को अपना राज्य चिन्ह राष्ट्रकूट राजाओं ने बनाया|

45.

किस सातवाहन राजा ने सर्वप्रथम राजा के नाम के सिक्के जारी किए?

[A] शातकर्णि प्रथम

[B] गौतमीपुत्र शातकर्णि

[C] यज्ञश्री शातकर्णि

[D] हाल

Correct Answer: A [शातकर्णि प्रथम]

Notes:

सातवाहन वंश आंध्र प्रदेश में राज्य करने वाला प्राचीन ब्राह्मण वंश था। इनका राज्य वर्तमान कर्नाटक से मध्य प्रदेश गुजरात तक फैला हुआ था। शातकर्णि प्रथम ने सबसे पहले अपने नाम के सिक्के जारी किए।

46.

यौध्देयों का प्रमुख स्थान कहाँ था?

[A] रोहतक

[B] मगध

[C] राजस्थान

[D] उज्जैन

Correct Answer: A [रोहतक]

Notes:

यौध्देयों का प्रमुख स्थान  हरियाणा का रोहतक था| कार्तिकेय यौध्देयों के प्रमुख देवता थे|

47.

समुद्रगुप्त के समय काँची का राजा कौन था?

[A] हस्तिवर्मन

[B] मंतराज

[C] नीलराज

[D] विष्णुगोप

Correct Answer: D [विष्णुगोप]

Notes:

समुद्रगुप्त के समय काँची का राजा विष्णुगोप था। उसका उल्लेख इलाहाबाद स्तंभ शिलालेख में है। विष्णुगोप पल्लव वंश का राजा था।

48.

चार अश्वमेध यज्ञों का आयोजन किस राजा ने कराया?

[A] हस्तिवर्मन

[B] समुद्रगुप्त

[C] पुष्यमित्र शुंग

[D] प्रवरसेन प्रथम

Correct Answer: D [प्रवरसेन प्रथम]

Notes:

प्रवरसेन प्रथम वाकाटक वंश का राजा था। वाकाटक दक्षिण भारत में राज्य करने वाला एक ब्राह्मण राजवंश था जिसने तीसरी शताब्दी से पाँचवी शताब्दी तक राज्य किया। इस वंश की स्थापना विंध्यशक्ति ने की। ये राजा गुप्त राजाओं के समकालीन थे।

49.

ग्रीक-रोमन साहित्य में चंद्रगुप्त मौर्य को सेन्ड्रोकोट्स कहा गया है। इसका उल्लेख सर्वप्रथम किसने किया?

[A] डी आर भंडारकर

[B] अलेक्जेंडर कनिघम

[C] आर पी चंद

[D] विलियम जोन्स

Correct Answer: D [विलियम जोन्स]

Notes:

विलियम जोन्स से सर्वप्रथम बताया कि ग्रीक-रोमन साहित्य में चंद्रगुप्त मौर्य को सेन्ड्रोकोट्स कहा गया है। इसके अलावा उसे एंड्रोकोट्स भी कहा गया है।

50.

किस राज्य के राजाओं ने सीरिया के साथ राजनीतिक संबंध बनाए?

[A] मौर्य

[B] गुप्त

[C] पल्लव

[D] चोल

Correct Answer: A [मौर्य]

Notes:

मौर्य राजा बिंदुसार ने सर्वप्रथम सीरिया के राजा एण्टियोकस प्रथम से राजनीतिक सम्बंध बनाये। बिंदुसार के राज्य में डाइमोकस नामक सीरियाई राजदूत था। अशोक के 13वें शिलालेख में भी सीरिया के 5 राजाओं का उल्लेख है।

51.

किस राज्य के राजा ने देवपुत्र उपाधि को अपनाया?

[A] कुषाण

[B] शक

[C] यवन

[D] गुप्त

Correct Answer: A [कुषाण]

Notes:

कनिष्क कुशान वंश का राजा था| उसके उत्तराधिकारियों ने देवपुत्त की उपाधि को अपनाया जिका अर्थ होता है देवताओं का पुत्र|

52.

महासंघिक निकाय कहाँ विकसित हुआ?

[A] वैशाली

[B] वज्जि

[C] पाटलिपुत्र

[D] राजगृह

Correct Answer: A [वैशाली ]

Notes:

वैशाली में सम्पन्न द्वितीय बौद्ध संगीति में थेर भिक्षुओं ने मतभेद रखने वाले भिक्षुओं को संघ से बाहर निकाल दिया। अलग हुए इन भिक्षुओं ने उसी समय अपना अलग संघ बनाकर स्वयं को ‘महासांघिक’ और जिन्होंने निकाला था उन्हें ‘हीनसांघिक’ नाम दिया| जिसने कालांतर में महायान और हीनयान का रूप धारण कर किया।

53.

कौन सा मिलान सही है?

[A] शाक्य- कपिलवस्तु

[B] कोलिय- रामग्राम

[C] कालम – अल्लाकप्पा

[D] मल्ल – कुशीनगर

Correct Answer: A [शाक्य- कपिलवस्तु]

Notes:

कपिलवस्तु में क्षत्रियों के शाक्य वंश के रजा शुद्धोदन राज्य करते थे| उन्हों के गौतम बुध्द का जन्म हुआ|

54.

निर्भर पत्नि और बच्चों को बेसहारा छोड़ भिक्षु बनने के लिए सजा किसने निर्धारित की?

[A] मनु

[B] कालिदास

[C] चाणक्य

[D] व्यास

Correct Answer: C [चाणक्य]

Notes:

चाणक्य चन्द्रगुप्त मौर्य के कुलगुरु थे| उन्हें विष्णुगुप्त या कौटिल्य भी कहा जाता है| उन्होंने अर्थशास्त्र की रचना की|

55.

23 वें जैन तीर्थंकर किस जगह से सम्बंधित थे?

[A] वैशाली

[B] वाराणसी

[C] पाटलिपुत्र

[D] वज्जि

Correct Answer: B [वाराणसी]

Notes:

तीर्थंकर पार्श्वनाथ वाराणसी के राजा अश्वसेन और रानी वामा के पुत्र थे| वे काशी में 800 ई पाऊ रहते थे| उन्हें शिखरजी में निर्वाण प्राप्त हुआ|

56.

निम्नलिखित में कौन से शिक्षक गौतम बुध्द को ज्ञान प्राप्त करने से पहले नियुक्त किये गए थे?

  1. अलारा कलमा 2. उद्द्क रामपुत्र 3. मखली गोसाला 4. निगांथा नाटापुत्त

सही विकल्प चुनिए:-

[A] केवल 1 और 2

[B] 1 और 3

[C] उपरोक्त में से कोई नहीं

[D] ये सभी

Correct Answer: A [केवल 1 और 2 ]

Notes:

अलारा कलमा और उद्द्क रामपुत्र गौतम बुध्द के शिक्षक थे| अलारा कलमा एक ब्राह्मण संत और दार्शनिक थे|वह सांख्य दर्शन के विशेषज्ञ थे। पीयू ली कैनन ग्रंथों के अनुसार, वह गौतम बुद्ध के पहले शिक्षकों थे। इन्होने उन दोनों से योग-साधना सीखी।

57.

निम्नलिखित में ऋग्वेद की शाखा है:-

[A] शौनक

[B] अश्वलायन

[C] संखायन

[D] शाकल

Correct Answer: D [शाकल]

Notes:

ऋग्वेद विश्व की पहली पुस्तक है| इसकी दो शाखाएं हैं :- शाकल और वाष्कल

58.

जूनागढ़ अभिलेख में किस शक राजा का नाम दर्ज है?

[A] रुद्रदामन

[B] मोगा

[C] अजेस

[D] नाहपान

Correct Answer: A [रुद्रदामन]

Notes:

जूनागढ़ अभिलेख गुजरात के जूनागढ़ में है| इसमें शक राजा रुद्रदामन का नाम है| इसमें वर्णन है कि सुदर्शन झील का पुनर्निर्माण रुद्रदामन ने कराया जो मौर्यों द्वारा निर्मित थी|

59.

चतुर्थ बौध्द संगीति किसके समय हुई?

[A] कनिष्क

[B] वासुदेव

[C] कालाशोक

[D] अशोक

Correct Answer: A [कनिष्क]

Notes:

चतुर्थ बौध्द संगीति कनिष्क के समय हुई| कनिष्क कुषाणों का राजा था| इस संगीति के अध्यक्ष वसुमित्र थे और उपाध्यक्ष अश्वघोष थे जो कनिष्क के दरबारी कवि और बुध्दचरित के रचयित थे| यह कश्मीर के कुंडलवन में हुई|

60.

मथुरा का कला स्कूल का उन्नत समय किस काल का था?

[A] कुषाण

[B] शक

[C] मौर्य

[D] गुप्त

Correct Answer: A [कुषाण]

Notes:

मथुरा का कला स्कूल कला के क्ष्टर का उस समय का विश्व प्रसिध्द स्कूल था| इसका मुख्य रूप से विकास कुषाण काल में हुआ| मथुरा कनिष्क की दूसरी राजधानी थी जो कुषाणों का सर्वश्रेष्ठ राजा था

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More